ज्यादा भरोसेमंद है आनलाईन सर्वे : ई.चुनाव

echunavउमेश सिंह :नयी दिल्ली, एक मार्च :भाषा: अगर मतदाताओं के बीच किए गए एक ऑनलाइन सर्वेक्षण के नतीजों की मानें तो आगामी लोकसभा चुनाव में बिजली-पानी कोई मुद्दा नहीं है, जबकि सबसे बड़ा मसला भ्रष्टाचार है। मुद्रास्फीति और बढ़ते अपराध के लिए भी आम जनता आगामी चुनाव में विभिन्न राजनीतिक पार्टियों को सबक सिखा सकती है।

ऑनलाइन सर्वेक्षण करने वाले पोर्टल ई.चुनाव ने अपने उपयोक्ताओं से इस साल के लोकसभा चुनाव के लिए सबसे बड़ा मुद्दा संबंधी सवाल पूछा था।पोर्टल ने इस सवाल के लिए पांच विकल्प उपलब्ध कराये थे। पोर्टल के करीब 47 फीसद उपयोक्ताओं ने भ्रष्टाचार को इस चुनाव का सबसे बड़ा मसला बताया, जबकि करीब 20 प्रतिशत ने महंगाई, 27 प्रतिशत ने बढ़ते अपराध और 7 प्रतिशत ने बेरोजगारी को 2014 के लोकसभा चुनाव का प्रमुख मुद्दा बताया।ऑनलाइन सर्वेक्षण में हिस्सा लेने वालों में 7 प्रतिशत महिलाएं और 93 प्रतिशत पुरष शामिल हैं।

echunavसर्वेक्षण में करीब 70 प्रतिशत एकल व्यक्तियों ने भागीदारी की, जबकि विवाहित व्यक्तियों का प्रतिशत 30 रहा।चुनाव पूर्व सर्वेक्षण एवं ओपिनियन पोल के आंकड़ों में धन लेकर फेरबदल करने के लिए मचे घमासान पर ई.चुनाव की उत्पाद प्रमुख मालिनी दास ने कहा कि किसी भी ऑनलाइन सर्वेक्षण में इस प्रकार की गुंजाइश नहीं होती है। यह पोर्टल से जुड़े लोगों के बीच पहुंचकर सीधे आंकड़े एकत्रित किये जाते हैं। सभी व्यक्ति वास्तविक होंगे या नहीं के सवाल पर उन्होंने बताया कि पोर्टल के उपयोग के लिए व्यक्ति को अपनी मेल-आईडी के जरिये अपनी पहचान सत्यापित करनी होती है।इसलिए इसमें पैसे लेकर आंकड़े बदलने अथवा किसी के प्रभाव में कोई परिवर्तन करने जैसे कयास बेबुनियाद हैं।ई.चुनाव के एक अन्य विपणन प्रमुख अर्णव दास ने बताया कि हम केवल राजनीति अथवा किसी विशेष प्रकार के सर्वेक्षण नहीं करते, बल्कि हमने अपने पोर्टल को छह विशेष खंड़ों में विभक्त किया है।

इनमें से मनोरंजन, सवास्थ्य, राजनीति, शिक्षा, अर्थव्यवस्था, सामाजिक, तकनीक एवं खेल जैसे विषय हैं। हम प्रतिदिन अथवा नियमित रूप से इन सभी खंडों के लिए एक प्रश्न जारी करते हैं और इसमें भाग लेने वालों के उत्तर के आधार पर ज्यामितीय आंकड़े तैयार किये जाते हैं। इसी प्रकार अरविन्द केजरीवाल द्वारा लगातार केन्द्र सरकार का विरोध एवं धरना-प्रदर्शन के सवाल पर करीब 17 प्रतिशत का मानना है कि उनकी इस प्रकार की क्रियाएं प्रभावशाली एवं स्वराज के प्रति अग्रगामी हैं, जबकि करीब 83 प्रतिशत व्यक्तियों को लगता है कि यह लोकप्रियता और अपने स्वार्थ के लिए बनायी गयी आम आदमी पार्टी की रणनीति का हिस्सा है।इस सर्वेक्षण में 67 प्रतिशत महिलाओं ने हिस्सा लिया, जबकि पुरष मतदाताओं का प्रतिशत 33 रहा।उक्त सर्वेक्षण में भाग लेने वाले सभी वयस्क व्यक्ति थे।उल्लेखनीय है कि ई.चुनाव पोर्टल एक ऑनलाइन वोटिंग प्लेटफार्म है।इसमें विभिन्न विषयों से संबंधित सवालों के जरिये आंकड़े एकत्रित किये जाते हैं। इसे चलाने वाली कंपनी वेरिस्टार्ट है और यह कंपनी के निगमित सामाजिक उत्तरदायित्व के तहत चलने वाली परियोजना है।संपादकीय सहयोग-अतनु दास

Read more…


Free WordPress Theme
WordPress Themes